Birat Post शुक्रबार, जेठ ०९, २०७७ मा प्रकाशित

featured photo: Birat Post

जो मजदूर हैं,
वो मजबूर हैं
और,
जिनके पास पैसे हैं
ना जाने कैसे-कैसे हैं

जो श्रमशूर हैं
सुख से दूर हैं
और,
जो करते हैं श्रम-शोषन
उनका सुखद है भरण-पोशन

धमन-भठ्ठि मे,
तन को तपाकर
लबों पर मुस्कान के सहारे,
अश्रु-बिन्दु को छुपाकर

जो हाथ मे करनी और फीता लिए
आपको बनाते हैं रहने योग्य,
मीनारों पर
जो हाथ मे धरे आपके गाडीके स्टेरिंग को
मोडते है लेफ्ट-राईट,राईट ,लेफ्ट
आपके ईशारों पर

जिनके हाथ के कौशल ने,
अता की आप को ऊची मीनारें,
ढह जाती हैं उन्ही के अक्सर
बरसात मे घर की दीवारें

जो थाम के स्टेरिंग को
आप के ईशारे पर चल्ते हैं,
कठिन परिस्थितियों मे,
सैकडों मील दूर घर, वो पैदल निकलते हैं

तभी तो कहता हूं,

जो मजदूर हैं,
वो मजबूर हैं
और,
जिनके पास पैसे हैं
ना जाने कैसे-कैसे हे

प्रतिक्रिया दिनुहोस

सम्बन्धित

सम्पर्क

 विराटपोष्ट डिजिटल प्रा.लि.

बिराटनगर – मोरङ ,नेपाल
कम्पनी दर्ता प्रमाणपत्र नं.:२२७८४३/०७६/०७७
स्थायी लेखा नं.:६०९६५५९५५
सूचना तथा प्रसारण विभाग दर्ता नं:१६६५/०७६/०७७
Email: [email protected] 

 

 प्रमुख सम्पादक : प्रतिक्षा खतिवडा

संंवाददाता
सुजन निरौला
रोशिका अधिकारी
लोकेश पोख्रेल
संचालक तथा सम्पादक 

कौशल निरौला

बिज्ञापनका लागि :

९८१२३०६६६०

९८१४३८५२१४

०२१ ४२०१०६